किसान आंदोलन में रिहाना-ग्रेटा के ट्वीट पर आया दो भारत रत्नाेंं का जवाब, जानिए क्या कहा– News18 Hindi

नई दिल्ली. केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानूनों (Farm Law 2020) पर दिल्ली सीमा पर विरोध कर रहे किसानों का आंदोलन (Farmer Protest) अब अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चर्चा में आ गया. वजह है पॉप सिंगर रिहाना, पर्यावरण एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग और मिया खलीफा जैसी कुछ विदेशी हस्तियों का इस पर ट्वीट करना और भारत की नामचीन हस्तियों का उस पर पलटवार करना. कंगना रनौत, अक्षय कुमार, अजय देवगन, एकता कपूर, विराट कोहली समेत कई हस्तियां हैं जिन्होंने देश को बांटने वाली साजिशों से लोगों को दूर रहने की सलाह दी है. हस्तियों के अलावा देश के दो भारत रत्नों ने भी इस मुद्दे पर अपनी प्रतिक्रिया दी है.

भारत रत्न से सम्मानित देश के मशहूर बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने बिना किसी का नाम लिए कहा है कि भारत के आंतरिक मामलों में विदेशी ताकतों की भूमिका दर्शक तक ही सीमित है न कि हिस्सेदार की. उन्होंने देशवासियों से एक देश के तौर पर एकजुट रहने की भी अपील की. ‘गॉड ऑफ क्रिकेट’ के नाम से सारी दुनिया में मशहूर सचिन तेंदुलकर ने ट्वीट किया, ‘भारत की संप्रभुता के साथ समझौता नहीं कर सकते. विदेशी ताकतें सिर्फ देख सकती हैं लेकिन हिस्सा नहीं ले सकतीं. भारत को भारतीय जानते हैं और भारत के लिए फैसला भारतीयों को ही लेना चाहिए. आइए एक राष्ट्र के तौर पर एकजुट रहें.’

भारत गौरवशाली राष्ट्र- लता मंगेशकर

वहीं, सुरों की मल्लिका और भारत रत्न लता मंगेशकर ने कहा, भारत गौरवशाली राष्ट्र है और हम सभी भारतीय अपना सिर ऊंचा कर खड़े हैं. एक अभिमानी भारतीय के नाते मुझे विश्वास है कि हम किसी भी मुद्दे और हथकंडे का एक देश के रूप में सामना कर सकते हैं. हम इन मुद्दों को अपने लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए सौहार्दपूर्ण ढंग से हल करने में सक्षम हैं.

ये भी पढ़ेंः- ट्रैक्टर परेड हिंसा मामले में वॉन्टेड पहुंचा पंजाब, लोगों को उकसाने की कर रहा कोशिश

भारतीय विदेश मंत्रालय ने जारी किया बयान

किसान आंदोलन पर रिहाना के ट्वीट के बाद भारतीय विदेश मंत्रालय की ओर से आधिकारिक तौर पर बयान जारी किया गया है. विदेश मंत्रालय ने कहा कि भारत की संसद ने पूरी जिरह और बातचीत के बाद कृषि सेक्टर में सुधारवादी कानून पारित किया है. ये सुधार किसानों के बड़ा मार्केट और सहूलियत देंगे. भारत के कुछ हिस्सों के किसानों के बहुत छोटे से हिस्से को इन सुधारों पर शक है. इस आंदोलन पर कुछ ग्रुप अपना मुद्दा आगे लाकर इन्हें भटकाने की कोशिश कर रहे हैं.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *