पीएम मोदी बोले- वर्तमान में देश भगवान बिरसा मुंडा के अस्तित्व अस्मिता और आत्मनिर्भरता के सपने की दिशा में ही बढ़ रहा

रांची. भगवान बिरसा मुंडा की जयंती पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वर्चुअल तरीके से रांची में निर्मित भगवान बिरसा मुंडा संग्रहालय का उद्घाटन किया. इस दौरान बीजेपी और जेएमएम के कार्यकर्ता लगातार अपने नेताओं के समर्थन में जयकारे लगाते नजर आए. इस कारण कार्यक्रम में मर्यादा की सीमा टूटते नजर आई.

धरती आबा भगवान बिरसा मुंडा की जयंती को इस वर्ष खास तरीके से मनाया गया. इसकी वजह ये रही कि केन्द्र ने इस दिन को जनजातीय गौरव दिवस के रूप में मनाने का ऐलान किया. इस मौके पर रांची में 142 करोड़ रुपए की लागत से 30 एकड़ में निर्मित भगवान बिरसा मुंडा स्मृति उद्यान सह स्वतंत्रता सेनानी संग्रहालय का पीएम मोदी के हाथों उद्घाटन हुआ.

इस उद्यान में झारखंड के शहीद भगवान बिरसा मुंडा की प्रतिमा के साथ गंगा नारायण सिंह, पोटो हो, भागीरथी मांझी, वीर बुधु भगत, तेलंगा खड़िया, सिद्धू-कान्हू, नीलाम्बर- पीतांबर, दिवा किसुन, गया मुंडा, जतरा टाना भगत की प्रतिमाएं लगाई गई हैं. उद्यान में चिल्ड्रन पार्क, म्यूजिकल फाउंटेन, फुड कोर्ट, इनफिनिटी पुल की भी व्यवस्था है. 5 एकड़ में स्थित भगवान बिरसा मुंडा जेल का जीर्णोद्धार कर इसे संग्रहालय का रूप दिया गया है.

संग्रहालय में प्रवेश करते ही झारखण्ड की कला- संस्कृति और जीवन-शैली को दर्शन होने लगता है. भगवान बिरसा की पूरी जीवनी को तस्वीरों के माध्यम से दर्शाई गई है. 142 करोड़ की लागत में 117 करोड़ राज्य सरकार ने वहन किया है, वहीं 25 करोड़ केंद्र सरकार की तरफ से दी गई है.

उद्यान में लेजर शो की भी व्यवस्था है. लेजर शो के जरिये झारखण्ड के तीर्थस्थल के बारे में बताया जाएगा. बाबा धाम, इटखोरी मन्दिर और रजरप्पा के छिन्नमस्तिके मंदिर को बारे में जानकारी दी जाएगी. आने वाले दिनों में शहीद हुए सेना के जवानों की भी सूचना यहां संग्रहित कर प्रदर्शित की जाएगी.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने उद्घाटन समारोह में कहा कि ये स्थल खास है, क्योंकि धरती आब ने यहां अपनी अंतिम सांस ली थी. उन्होंने इस परिसर को ऐतिहासिक बताते हुए कहा कि इस संग्रहालय में प्रदेश के तमाम शहीदों के बारे में जानकारी दी गई है. इससे आने वाली पीढ़ी को इनके महान सपूतों के बारे में जान पाएगी.

संग्रहालय के उद्घाटन के बाद प्रधनमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भगवान बिरसा व्यक्ति नहीं, बल्कि परम्परा हैं. पीएम ने कहा कि रांची ऐसी जगह है, जहां लोगों को सीखने को मिलता है. देश के लोगों से भी अपील करते हुए पीएम ने कहा कि वे यहां आए इस संग्रहालय को देखें. रांची के इतिहास को जानें.

झाखण्ड के नौजवानों से अपील करते हुए पीएम ने कहा कि वे यहां शोध करे. भगवान बिरसा ने अस्तित्व, अस्मिता और आत्मनिर्भरता का सपना देखा था. वर्तमान में देश इसी दिशा में आगे बढ़ रहा है. वक्त है अपनी जड़ों को मजबूत करने का, जिससे देश मजबूत हो सके.

इस ऐतिहासिक समारोह में बीजेपी और जेएमएम के कार्यकर्ता कार्यक्रम में मर्यादा की सीमा को लांघते नजर आए. कार्यकर्ता अपने- अपने नेताओं के पक्ष में जयकारे लगाते नजर आए.

Tags: Birsa Munda Jayanti, CM Hemant Soren, Jharkhand news, PM Modi

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *