Afghanistan Crisis: तालिबान के हाथ लगे कीमती अमेरिकी हथियार, व्हाइट हाउस ने जताई चिंता

वॉशिंगटन. अफगानिस्तान में करीब दो दशकों के बाद तालिबान (Taliban) की एक बार फिर वापसी हुई है. 2001 में अमेरिकी सैन्य मौजूदगी के बाद सिमटा तालिबान सैनिकों के वापस अमेरिका लौटने के बाद एक बार फिर मजबूत स्थिति में है. इतना ही नहीं उसके हाथ अमेरिका (US) के कई आधुनिक सैन्य उपकरण भी लग गए हैं. इस बात की जानकारी व्हाइट हाउस (White House) ने मंगलवार को दी है. बीते रविवार को ही तालिबान ने अपनी जीत की घोषणा कर दी थी.

मंगलवार को व्हाइट हाउस ने इस बात को माना कि अमेरिकी सैन्य उपकरणों का एक बड़ा हिस्सा तालिबान के पास चला गया है. कुछ फोटो और वीडियो सामने आए हैं, जहां तालिबान के लड़ाके उन हथियारों का इस्तेमाल करते नजर आ रहे हैं, जो कभी अमेरिकी सैनिक के हाथों में होते थे या अमेरिका की तरफ से अफगान बलों को दिए गए थे. इनमें एडवांस यूएच-60 ब्लैक हॉक और कंधार एयरपोर्ट पर दूसरे उपकरणों का नाम भी शामिल है.

यह भी पढ़ें: जल्द अफगानिस्तान में होगा इस्लामिक सरकार का गठन, पढ़ें तालिबान की प्रेस कॉन्फ्रेंस की 10 अहम बातें

व्हाइट हाउस के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ने बताया, ‘जाहिर है कि हमारे पास पूरी तस्वीर नहीं है कि रक्षा सामग्री का पूरा सामान कहां गया, लेकिन यह बात साफ है कि इसका काफी हिस्सा तालिबान के हाथों में चला गया है.’ उन्होंने कहा, ‘जाहिर सी बात है, हमें यह नहीं पता कि वे इसे आसानी से हमें सौंपेंगे या नहीं.’ उन्होंने पाया कि तालिबान विद्रोह का सामना करने के लिए ब्लेक हॉक्स अफगान सरकार को सौंपे गए थे. लेकिन सरकार ने इस्लामी विद्रोहियों के सामने घुटने टेक दिए और बड़े स्तर पर हथियारों हेलीकॉप्टरों पर नियंत्रण छोड़ दिया.

सैनिकों की कम संख्या के चलते पस्त हुआ अफगानिस्तान!
बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, अफगानिस्तान की राष्ट्रीय सेना के गिरने का बड़ा कारण उसकी वास्तविक संख्या है. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन बार-बार कह रहे थे कि तीन लाख सैनिकों वाली अफगान सेना ने सैकड़ों मिलियन डॉलर के उपकरण और ट्रेनिंग प्राप्त की है. रिपोर्ट में दो सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि सैनिकों की असल संख्या 50 हजार के करीब थी. अफगानी सूत्र ने बीबीसी न्यूजनाइट को बताया कि पूर्व विदेश मंत्री सलाहुद्दीन रब्बानी के साथ मुलाकात में नए नियुक्त किए गए रक्षा मंत्री बिस्मिल्लाह खान मोहम्मदी ने केवल 50 हजार सैनिकों के आंकड़े पर चिंता जाहिर की थी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *