Corona की थर्डवेव आने से पहले दिल्ली के 25 अस्पतालों में और लगाए जाएंगे इतने ऑक्सीजन प्लांट

नई द‍िल्‍ली. दिल्ली में कोरोना (Corona) की दूसरी लहर में अस्पतालों में बेड और ऑक्सीजन की भारी किल्लत से कोहराम मच गया था. वहीं, अब कोरोना की संभावित थर्डवेव के आने से पहले दिल्ली सरकार (Delhi Government) सरकारी अस्पतालों में पीएसए ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र (PSA Oxygen Generation Plant) तेजी के साथ स्थापित कराने में जुटी हुई है. अब तक पांच एलएमओ (Liquid Medical Oxygen) स्‍टोरेज टैंकों के साथ 49 पीएसए ऑक्सीजन संयंत्र स्थापित किए जा चुके हैं तथा बाकी को स्थापित करने का काम तेजी से क‍िया जा रहा है.

जानकारी के मुताबिक द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) के 34 अस्‍पताल हैं. सरकार की ओर से 25 अस्‍पतालों में पीएसए ऑक्‍सीजन प्‍लांट (Oxygen Plant) लगाने का काम पूरा क‍िया जा चुका है. वहीं इन अस्‍पतालों में ही केजरीवाल सरकार की ओर से 16 और पीएसए प्‍लांट लगाने का काम और तेजी से क‍िया जाएगा. सूत्रों के मुताबि‍क संजय गांधी मैमोर‍ियल अस्‍पताल में 4 पीएसए प्लांट लगाये जा चुके हैं. वहीं लोक नायक जयप्रकाश अस्‍पताल में भी 4 पीएसए प्‍लांट लगाये गये हैं और एक और प्‍लांट लगाने की तैयारी जोर शोर से की जा रही है.

ये भी पढ़ें: अब 2 साल से ऊपर के बच्चों के लिए भी जल्द उपलब्ध होगी कोरोना वैक्‍सीन: स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया

LNJP अस्‍पताल में तैयार हो रहे 2,010 ऑक्‍सीजन बेड
बताते चलें क‍ि एलएनजेपी अस्‍पताल (LNJP Hospital) द‍िल्‍ली सरकार का इकलौता ऐसा अस्‍पताल हैं जहां पर कोव‍िड-19 (Covid-19) के भर्ती करीब 25 हजार से ज्‍यादा मरीज ठीक हुये हैं. इस अस्‍पताल में कोरोना मरीजों को लेकर बेहद दवाब देखा गया है. सरकार इस अस्‍पताल में न केवल मरीजों के बेड्स की संख्‍या में बढ़ोत्‍तरी करने में जुटी है बल्‍क‍ि स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं को और बेहतर से बेहतर करने का काम भी कर रही है.

एलएनजेपी अस्‍पताल में कुल बेड्स की संख्‍या 2010 है. इनमें से 1050 बेड ऑक्‍सीजन वाले शाम‍िल हैं. बाकी 960 बेड को भी ऑक्‍सीजन सुव‍िधा से लैस बनाने का काम क‍िया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: वैज्ञानिकों का दावा- कोराना मरीजों में बनीं अधिक एंटीबॉडीज भविष्य में री-इंफेक्शन से बचाएंगी

स‍ितंबर तक 65 पीएसए ऑक्‍सीजन उत्‍पादन प्‍लांट शुरू होने की संभावना
सूत्र बताते हैं क‍ि द‍िल्‍ली सरकार (Delhi Government) के अस्‍पतालों में स‍ितंबर माह तक कुल 65 पीएसए ऑक्‍सीजन उत्‍पादन प्‍लांट शुरू करने की प्रबल संभावना जताई जा रही है. सरकार की ओर से 13,174 बेड ऑक्‍सीजन सुव‍िधा युक्‍त तैयार करने का काम क‍िया जा रहा है. वहीं अभी तक 7,307 बेड को ऑक्‍सीजन लैस बनाया जा चुका है. सरकार की पूरी तैयारी है क‍ि अक्‍टूबर माह तक इन सभी 13,174 बेड्स को ऑक्‍सीजन सुव‍िधा से लैस कर तैयार कर द‍िया जाए.

सूत्र बताते हैं क‍ि द‍िल्‍लीभर के सरकारी और प्राईवेट अस्‍पतालों में 148.11 मीट्रिक टन क्षमता के करीब 160 पीएसए ऑक्‍सीजन प्‍लांट लगाये जा रहे हैं.

जानकारी के मुताबिक द‍िल्‍ली सरकार की ओर से पीएसए ऑक्‍सीजन उत्‍पादन प्‍लांट लगाने से लेकर सभी बेड तक मेड‍िकल गैस पाइपलाइन स‍िस्‍टम (MGPS) लगाने का काम लोक न‍िर्माण व‍िभाग को सौंपा गया है. इस कार्य को व‍िभाग की ओर से कई अस्‍पतालों में शुरू भी कर द‍िया गया है. बताया जाता है क‍ि करीब एक से डेढ़ माह के भीतर सभी ऑक्‍सीजन प्‍लांट लगाने से लेकर पाइपलाइन सिस्‍टम को भी बेड तक ऑक्‍सीजन सप्‍लाई के ल‍िये तैयार कर द‍िया जाएगा.

ये भी पढ़ें: Coronavirus In India: 24 घंटे में कोरोना के 42,909 नए केस, 380 की मौत, अकेले केरल में 29,836 केस

पीएसए प्‍लांट के साथ ऑक्‍सीजन स्‍टोरेज टैंक भी बनाये जा रहे
कोरोना की थर्ड वेव में लोगों को बचाने के ल‍िये और ऑक्‍सीजन की क‍िल्‍लत नहीं हो, इसको लेकर हर अस्‍पताल में कम से कम दो से 6 पीएसए ऑक्‍सीजन उत्‍पादन प्‍लांट लगाये जा रहे हैं. इतना ही नहीं सरकार ने ऑक्‍सीजन प्‍लांट लगाने के साथ-साथ ऑक्‍सीजन स्‍टोरेज टैंक तैयार करने पर भी जोर द‍िया हुआ है.

द‍िल्‍ली सरकार की ओर से ऑक्‍सीजन स्‍टोरेज टैंक भी बनाये जा रहे हैं. इन स्‍टोरेज टैंक का बड़ा फायदा यह होगा क‍ि केंद्र सरकार की ओर से राज्‍यों को आवंट‍ित होने वाली कोटे की ऑक्सीजन को भी स्‍टोरेज करने में मदद म‍िल सकेगी.

जीटीबी में तैयार हो रहे 1,300 ऑक्सीजन बेड्स
यमुनापार के सबसे बड़े सरकारी अस्‍पताल गुरू तेग बहादुर अस्‍पताल (GTB Hospital) की बात की जाए तो थर्ड वेव से न‍िपटने और मरीजों को बेहतर च‍िक‍ित्‍सा सुव‍िधा मुहैया कराने के ल‍िये 1,300 बेड्स को ऑक्‍सीजन सुव‍िधा लैस बनाने का काम क‍िया जा रहा है. इनमें से 848 बेड्स को इस सुव‍िधा से युक्‍त बना द‍िया गया है. बाकी 452 बेड्स को इस सुव‍िधा से जोड़ने का काम भी क‍िया जा रहा है.

ये भी पढ़ें: Covid-19 Vaccination: अक्टूबर में ही भारत हासिल कर सकता है बड़ा मुकाम, सारे युवाओं को लगा देगा वैक्सीन की पहली डोज़
इन अस्‍पतालों में तैयार हो चुके हैं ऑक्‍सीजन बेड्स
इसके अलावा जीबी पंत अस्‍पताल में 756 ऑक्‍सीजन बेड्स तैयार करने पर काम क‍िया जा रहा है. इनमें 371 बेड्स को सुव‍िधा लैस कर द‍िया गया है बाकी 385 को करने के काम क‍िया जा रहा है.

इसी तरह से दीन दयाल अस्‍पताल में 680 ऑक्‍सीजन बेड्स तैयार होने हैं ज‍िनमें से 280 को ऑक्‍सीजन सुव‍िधा के साथ तैयार कर द‍िया गया है और बाकी 360 को आने वाले समय में भी कर तैयार कर द‍िया जाएगा. इसके अलावा बुराड़ी में 700 बेड्स में से 400 को ऑक्‍सीजन सुव‍िधा लैस हैं और बाकी 300 बेड्स को भी जल्‍द क‍िया जाएगा.

वहीं, अंबेडकर नगर अस्‍पताल में कुल 600 बेड्स पर यह सुव‍िधा मुहैया कराने की तैयारी है. अस्‍पताल के 350 बेड्स ऐसे हैं ज‍िन पर यह सुव‍िधा लैस की जा चुकी है, 250 बेड्स को ऑक्‍सीजन सुव‍िधा युक्‍त करने का काम क‍िया जा रहा है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *