Explained: 50% आबादी को लग चुका टीका, मास्‍क भी अनिवार्य, तो फिर अमेरिका में क्‍यों बढ़ रहे कोरोना केस?

वाशिंगटन. अमेरिका (United States) में इन दिनों फिर से कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus) के मामले बढ़ने लगे हैं. शनिवार को अमेरिका में कोरोना संक्रमण (Covid 19) के नए मामलों की संख्‍या 1,00,000 पार कर गई है. इससे वहां हालात अधिक चिंताजनक हो रहे हैं. इन दिनों अमेरिका में कोरोना वायरस के डेल्‍टा वेरिएंट को भी काफी खतरनाक माना जा रहा है.

जॉन हॉप्किंस यूनिवर्सिटी और ब्‍लूमबर्ग की ओर से जुटाए गए आंकड़ों के अनुसार शुक्रवार को साप्‍ताहिक रूप से कोरोना वायरस संक्रमण के आंकड़े 7,50,000 के पार पहुंच गए हैं. यह फरवरी के बाद से अब तक का सर्वाधिक बढ़ा हुआ साप्‍ताहिक आंकड़ा है. शुक्रवार को सिर्फ फ्लोरिडा में ही साप्‍ताहिक कोरोना वायरस के मामले बढ़कर 1,35,000 से बढ़ गए हैं.

स्‍वास्‍थ्‍य अफसरों का इस संबंध में यह डर है कि अगर अमेरिकी लोग टीकाकरण को बढ़ावा नहीं देंगे तो कोरोना के केस, मौतें और अस्‍पतालों में मरीजों के भर्ती होने आंकड़े ऐसे ही बढ़ते रहेंगे. पूरे देश की बात करें तो अमेरिका में अब तक 50 फीसदी नागरिकों को वैक्‍सीन की दोनों डोज लग चुकी है. इसके साथ ही 70 फीसदी से अधिक युवाओं को कम से कम वैक्‍सीन की एक डोज लग चुकी है.

कम टीकाकरण
वाइट हाउस ने शुक्रवार को कहा कि अमेरिका की आधी आबादी कोविड-19 टीके की दोनों डोज़ लगवा चुकी है. इसका मतलब है कि 16.5 करोड़ से अधिक लोगों को या तो दो-डोज वाली मॉडर्ना या फाइजर वैक्सीन या जॉनसन एंड जॉनसन डोज मिला है. हालांकि रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि कुछ राज्यों में कम टीकाकरण हो रहा है.

सीडीसी का कहना है कि देशभर में अस्पतालों में भर्ती होने वाले मरीज़ों में 41% मरीज़ फ्लोरिडा, जॉर्जिया, अलाबामा, मिसिसिपी, उत्तरी कैरोलिना, दक्षिण कैरोलिना, टेनेसी और केंटकी से हैं, जो कि उनके जनसंख्या अनुपात से दोगुना है. अलबामा और मिसिसिपी में देश में सबसे कम टीकाकरण दर है. मेयो क्‍लीनिक के अनुसार, 35% से कम निवासियों को पूरी तरह से टीका लगाया गया है. जॉर्जिया, टेनेसी और कैरोलाइना सभी सबसे कम 15 राज्यों में हैं.

फ्लोरिडा देश के कुल नए कोरोना मामलों और अस्पताल में भर्ती होने वाले लोगों में फ्लोरिडा की हिस्‍सेदारी 20 फीसदी से अधिक है. यह इसकी जनसंख्‍या का तिगुना हिस्‍सा है. कई ग्रामीण क्षेत्रों में टीकाकरण दर 40% से कम है, राज्य में यह 49% है. फ्लोरिडा में शनिवार को फिर से कोरोना के नए मामले 23,903 आए हैं, यह रिकॉर्ड था.

डेल्‍टा वेरिएंट लगातार खतरा बना हुआ
अमेरिका ने अब रोजाना कोरोना संक्रमण के 1 लाख से अधिक मामलों की जानकारी दी है. इस बढ़ोतरी के पीछे अत्यधिक संक्रामक डेल्टा वेरिएंट को जिम्मेदार ठहराया गया है. सीडीसी के अनुसार डेल्टा वेरिएंट जुलाई के अंतिम 2 हफ्ते में सभी अमेरिकी कोविड-19 मामलों के 80 फीसदी और 87 फीसदी के बीच बढ़े. जून की शुरुआत में 8 फीसदी से 14 फीसदी तक है. वेरिएंट के मामले जून की शुरुआत में 7 दिनों के औसत 13,500 रोजाना मामलों से बढ़कर 3 अगस्त को 92,000 हो गए हैं.

डेल्टा वेरिएंट की चपेट में बड़ी संख्या में अमेरिकी बच्चे आ रहे हैं, जिससे माता-पिता के लिए नए सिरे से चिंता के साथ ही राजनीतिक जंग भी हो रही है. क्‍योंकि जल्‍द ही अमेरिका में स्‍कूल भी खोलने की बात चल रही है. अधिकांश कोरोना केस दक्षिण-पूर्वी राज्य फ्लोरिडा में केंद्रित है. वाशिंगटन विश्वविद्यालय में इंस्टीट्यूट फॉर हेल्थ मेट्रिक्स एंड इवैल्यूएशन (IHME) के विशेषज्ञ अनुमान लगा रहे हैं कि अमेरिका में कोविड-19 पीक 450,000 रोजाना मामलों तक पहुंच सकता है.

शीर्ष अमेरिकी वैज्ञानिक एंथनी फाउची ने 1 अगस्त को कहा था कि डेल्टा वेरिएंट से बढ़े कोविड-19 के मामलों के बावजूद अमेरिका में लॉकडाउन लगाने की अभी कोई संभावना नहीं है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *