WTC Final: लक्ष्मण ने बताई रहाणे की ‘कमजोरी’, सचिन तेंडुलकर की सलाह भी दिलाई याद

अजिंक्य रहाणे विश्व टेस्ट चैम्पियनशिप में भारत की ओर से सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं. उन्होंने उन्होंने 17 टेस्ट में 1095 रन बनाए हैं. (फोटो-AFP)

अजिंक्य रहाणे को पहली पारी में नील वैगनर ने शिकार बनाया जिसमें केन विलियमसन की रणनीति भी कारगर साबित हुई. दिग्गज भारतीय क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने रहाणे की कमजोरी की ओर ध्यान दिलाया. उन्होंने महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर की एक सलाह भी याद दिलाई जो उनके क्रिकेट करियर में मिली थी.

नई दिल्ली. वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल (WTC Final) मुकाबले में न्यूजीलैंड के खिलाफ भारतीय टीम की पहली पारी 217 रन पर सिमटी, जिसमें उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) ने सर्वाधिक 49 रन का योगदान दिया. न्यूजीलैंड ने तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक 2 विकेट पर 101 रन बना लिए. रहाणे को मुकाबले के तीसरे दिन नील वैगनर ने शिकार बनाया और उन्हें टॉम लाथम के हाथों कैच करा दिया. दिग्गज भारतीय क्रिकेटर वीवीएस लक्ष्मण ने इस बीच रहाणे की कमजोरी की ओर ध्यान दिलाया. उन्होंने महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर की एक सलाह को भी याद दिलाया.

रहाणे के विकेट में न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन की भी भूमिका रही, जिन्होंने वैगनर के साथ कुछ बातचीत की और रहाणे को आउट करने के लिए रणनीति बनाई. वह छोटी गेंद को अच्छी तरह खेलते हैं और हुक और पुल भी अच्छा करते हैं. उनके आउट होने में यह एक वजह बना. लक्ष्मण ने मैच के दौरान स्टार स्पोर्ट्स से बातचीत में कहा कि वह हमेशा से विलियमसन की कप्तानी से काफी प्रभावित रहे हैं. उन्होंने कहा, ‘मुझे लगा कि अजिंक्य की आंखें जम चुकी थीं. वह बेहतर अंदाज में बल्लेबाजी कर रहे थे और दूसरे दिन के मुकाबले भी काफी अच्छे से जम चुके थे लेकिन यह उनकी बल्लेबाजी का अंदाज बन चुका है. न्यूजीलैंड ने क्राइस्टचर्च में भी उनके खिलाफ यही रणनीति अपनाई थी.’

लक्ष्मण ने आगे कहा, ‘वैगनर और विलियमसन ने मिलकर कुछ रणनीति बनाई थी. पांचवीं गेंद तक वहां कोई फील्डर नहीं था. इसके बाद बैकवर्ड शॉर्ट-लेग पर भी फील्डर लगाया जिससे रहाणे को आधे-अधूरे दिल से पुल शॉट खेलना पड़ा. उस पुल शॉट में कोई दम भी नजर नहीं आया. रहाणे खुद इससे खुश नहीं होंगे.’

इसे भी पढ़ें, विराट कोहली को लेकर जोफ्रा आर्चर की भविष्‍यवाणी, 5 साल पुराना ट्वीट हुआ वायरलउन्होंने सचिन की सलाह को याद करते हुए कहा, ‘मुझे क्रिकेट करियर की शुरुआत में सचिन ने एक सलाह दी थी. उन्होंने कहा था कि अगर आप कामयाब होना चाहते हैं तो आपको दो क्षेत्रों में सहज रहना चाहिए. पहला कि आपको पता हो कि ऑफ स्टंप कहां हैं और गेंद जब ऐसी जगह पिच हो, जहां समझना मुश्किल हो कि उसे कैसे खेलना है, तो आपको उसका सामना करना आना चाहिए. दूसरा कि आपको यह भी पता होना चाहिए कि बाउंसर को छोड़ना है या डिफेंड करना है.’

रहाणे ने अपनी 117 गेंदों की पारी में 5 चौके लगाए. उन्होंने कप्तान विराट कोहली के साथ 61 रन की साझेदारी भी की. विराट ने 132 गेंदों पर एक चौके की मदद से 44 रन बनाए. न्यूजीलैंड ने तीसरे दिन तक 2 विकेट खोकर 101 रन बना लिए हैं और वह भारत की पहली पारी के आधार पर उससे अभी 116 रन पीछे है. जरूरत पड़ने पर इस मुकाबले में रिजर्व डे का भी इस्तेमाल किया जा सकता है.





Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *